Western Times News

Latest News from Gujarat

आईडीईएक्‍स 4 की फौजी सैनिकों के बीच नवोन्‍मेष को प्रोत्‍साहित करने के लिए पहली बार शुरूआत

रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने डिफेंस इंडिया स्‍टार्ट अप चैलेंज-4 लॉन्‍च किया; रक्षा मंत्री ने कहा कि रक्षा स्‍टार्ट अप इकोसिस्‍टम आत्‍मनिर्भर भारत अभियान की भावना को हासिल करने की दिशा में एक निर्णायक कदम है ;

Delhi, रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने इनोवेशन फॉर डिफेंस एक्सीलेंस (आईडीईएक्‍स) इकोसिस्टम के आकाश के घेरे का विस्तार करने के उद्देश्य से की गई पहल के साथ आईडीईएक्‍स कार्यक्रम के दौरान डिफेंस इंडिया स्टार्टअप चैलेंज (डिस्‍क 4) को लॉन्च किया। कार्यक्रम के दौरान रक्षा मंत्री ने आईडीईएक्‍स4फौजी पहल और उत्पाद प्रबंधन दृष्टिकोण (पीएमए) दिशा-निर्देश भी जारी किए। इनमें से प्रत्येक पहल से कार्यक्रम को गुणात्मक और मात्रात्मक रूप से बढ़ाने के लिए आईडीईएक्‍स-डीआईओ सुविधा की उम्मीद है।

आईडीईएक्‍स4फौजी अपनी तरह की पहली पहल है, जो भारतीय सशस्त्र बलों के सदस्यों द्वारा पहचाने गए नवाचारों को सहयोग देने के लिए शुरू की गई है और यह सैनिकों / क्षेत्र की रचना से किफायती नवोन्‍मेष विचारों को संभालेगा। मैदान में और सीमाओं पर 13 लाख से अधिक सेवा कर्मी काम कर रहे हैं,

अत्‍यन्‍त कठिन परिस्थितियों का निर्वाह कर रहे हैं और उपकरणों को संभाल रहे हैं। इस तरह के उपकरणों को बेहतर बनाने के लिए उनके पास अनेक विचार और नवीन अविष्‍कार हो सकते हैं। इस तरह के नवीन अविष्‍कारों का सहयोग करने के लिए कोई तंत्र नहीं था।
आईडीईएक्‍स4फौजी इस खिड़की को खोलेगा और हमारे फौजियों को नवाचार प्रक्रिया का हिस्सा बनने और मान्यता देने और पुरस्कृत करने की अनुमति देगा। सेवा मुख्यालय अधिकतम भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए पूरे देश में सैनिकों और क्षेत्र संरचनाओं को सहायता प्रदान करेगा।

इस अवसर पर, रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि आईडीईएक्‍स पहल हमारे देश में बनाई गई सबसे प्रभावी और अच्छी तरह से क्रियान्वित रक्षा स्टार्टअप इकोसिस्टम में से एक के रूप में सामने आती है और यह एक आत्मनिर्भर अभियान की दिशा में एक निर्णायक कदम होगा। श्री राजनाथ सिंह ने कहा, पहली बार देश में ऐसा माहौल बना है जब रक्षा क्षेत्र में नवाचारों को आगे बढ़ाने के लिए विभिन्न हितधारकों को एक साथ लाया गया है।

रक्षा मंत्री ने कहा, “हमारी रक्षा प्रणाली को और मजबूत बनाने और इसे आत्मनिर्भर बनाने के लिए निजी क्षेत्र की भागीदारी भी महत्वपूर्ण है। इसके लिए हमने कुछ कदम उठाए हैं जैसे निजी क्षेत्र के साथ भागीदारी, प्रौद्योगिकी हस्तांतरण, स्वचालित मार्ग के माध्यम से 74% एफडीआई और हाल ही में अनुबंधित अवधि के बाद आयात पर प्रतिबंध लगाने के लिए जारी की गई 101 वस्तुओं की नकारात्मक सूची शामिल है।

” रक्षा मंत्री ने यह भी कहा कि कल ही सरकार ने रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया 2020 शुरू की, जो निजी क्षेत्र को रक्षा क्षेत्र में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करना चाहती है। रक्षा मंत्री ने सशस्त्र बलों को ”रक्षा नवाचार संगठन (डीआईओ) मंच का पूरा उपयोग करने के लिए अपनी तकनीकी आवश्यकताओं और भारतीय स्टार्टअप को इस अवसर का उपयोग करने के लिए हमारे रक्षा दूतों का अभिन्न अंग बनने के लिए प्रेरित किया। ”

कार्यक्रम को रक्षा राज्य मंत्री श्री श्रीपद येसो नाइक, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, रक्षा सचिव डॉ. अजय कुमार और रक्षा उत्पादन विभाग के सचिव श्री राजकुमार ने संबोधित किया।

Copyright © All rights reserved. | Developed by Aneri Developers